बुधवार, 10 जून 2020

स्वामी विवेकानंद- तेजस्वी विचारों से ओतप्रोत हिंदु धर्मप्रसारक

स्वामी विवेकानंद- तेजस्वी विचारों से ओतप्रोत हिंदु धर्मप्रसारक

स्वामी विवेकानंद जी की पुण्यतिथि 11 जून, 2020 हिन्दू पंचांगानुसार है, इस निमित्त आइए जानकर लेते हैं, स्वामी विवेकानंद जी के बारे में , उनके व्यक्तित्व के बारे में महत्त्वपूर्ण और प्रेरणादायी जानकारी।
स्वामी विवेकानंद
third party image

What is Swami Vivekananda known for?


जन्म, बचपन तथा शिक्षा


When and where Swami Vivekananda was born?

स्वामी विवेकानंद जी का मूल नाम नरेंद्रनाथ था । उनका जन्म 12 जनवरी 1863 के दिन कोलकाता में हुआ । बचपन से ही विवेकानंद जी के व्यवहार में दो बातें स्पष्ट रूप से दिखाई देने लगीं । प्रथम, वे वृत्ति से श्रद्धालु एवं दयालु थे तथा बचपन से ही कोई भी साहसी कृत्य बेधडक साहस एवं निर्भयता से करते थे । स्वामी विवेकानंद जी का संपूर्ण परिवार धार्मिक होने के कारण बाल्यावस्था में ही उन पर धर्मविषयक योग्य धार्मिक संस्कार होते गए । 1870 में उनका नामांकन ईश्वरचंद्र विद्यासागर की पाठशाला में कराया गया । पाठशाला में रहते हुए अध्ययन करने के साथ-साथ विवेकानंद जी ने बल की उपासना भी की । स्वामी जी में स्वभाषा का अभिमान भी था, यह दर्शाने वाली एक घटना इस प्रकार है । अंग्रेजी शिक्षण के समय उन्होंने कहा, `गोरों की, अर्थात यवनों की इस भाषा को मैं कभी नहीं पढूंगा ।' ऐसा कहकर लगभग 7-8 महीने उन्होंने वह भाषा सीखना ही अस्वीकार कर दिया । अंत में विवश होकर उन्होंने अंग्रेजी सीखी । विवेकानंद जी ने मैट्रिक की परीक्षा में प्रथम स्थान प्राप्त कर कुल और पाठशाला की प्रतिष्ठा बढाई । आगे कोलकाता के प्रेसिडेन्सी महाविद्यालय से उन्होंने `तत्त्वज्ञान' विषयमें एम.ए. किया ।

Where did Swami Vivekananda Study?


 गुरुभेंट तथा संन्यासदीक्षा


नरेंद्र के घर में ही पले-बढे उनके एक संबंधी डॉ. रामचंद्र दत्त, रामकृष्ण परमहंस जी के भक्त थे । धर्म के प्रति लगाव से प्रेरित नरेंद्र के मन में बचपन से ही तीव्र वैराग्य देख डॉ. दत्त एक बार उनसे बोले, `भाई, यदि धर्मलाभ ही तुम्हारे जीवन का उद्देश्य हो, तो तुम ब्राम्हसमाज इत्यादि के झंझट में मत पडो । तुम दक्षिणेश्वर में श्री रामकृष्ण जी के पास जाओ ।' एक दिन उनके पडोसी श्री. सुरेंद्रनाथ के घर पर ही उन्हें श्री रामकृष्ण परमहंस जी के दर्शन हुए । प्रारंभ के कुछ दिन श्रीरामकृष्ण जी नरेंद्रनाथ को अपने से क्षणभर भी दूर नहीं रखना चाहते थे । उन्हें पास बिठाकर अनेक उपदेश दिया करते । इन दोनों की भेंट होने पर आपस में बहुत चर्चाएं हुआ करती थीं । श्री रामकृष्ण अपना अधूरा कार्यभार नरेंद्रनाथ पर सौंपने वाले थे । एक दिन श्रीरामकृष्ण ने एक कागद के टुकडे पर लिखा, `नरेंद्र लोक शिक्षण का कार्य करेगा ।' कुछ मुंह बनाकर नरेंद्रनाथ उन्हें बोले, `यह सब मुझसे नहीं होगा ।' श्री रामकृष्ण तुरंत दृढता से बोले, `क्या ? नहीं होगा ? अरे तेरी अस्थियां ये कार्य करेंगी ।' तत्पश्चात श्री रामकृष्ण ने नरेंद्रनाथ को संन्यासदीक्षा देकर उनका नामकरण `स्वामी विवेकानंद' किया ।

 गुरु के प्रति अनन्य निष्ठा


एक बार किसी शिष्य ने गुरुदेव की सेवा में घृणा और निष्क्रियता दिखाते हुए नाक-भौं सिकोड़ीं । यह देखकर विवेकानन्द को क्रोध आ गया । वे अपने उस गुरु भाई को सेवा का पाठ पढाते और गुरुदेव की प्रत्येक वस्तु के प्रति प्रेम दर्शाते हुए उनके बिस्तर के पास से रक्त, कफ आदि से भरी थूकदानी उठाकर फेंकते थे । गुरु के प्रति ऐसी अनन्य भक्ति और निष्ठा के प्रताप से ही वे अपने गुरु की देह और उनके दिव्यतम आदर्शों की उत्तम सेवा कर सके । गुरुदेव को समझ सके और स्वयं के अस्तित्व को गुरुदेव के स्वरूप में विलीन कर सके तथा आगे चलकर समग्र विश्व में भारत के अमूल्य आध्यात्मिक भण्डार की महक फैला सके । ऐसी थी उनके इस महान व्यक्तित्व की नींव में गुरुभक्ति, गुरुसेवा और गुरु के प्रति अनन्य निष्ठा जिसका परिणाम सारे संसार ने देखा ।

धर्मप्रसार के कार्य का प्रारंभ : रामकृष्ण मठ की स्थापना


श्री रामकृष्ण के महासमाधि लेने के उपरांत स्वामी विवेकानंद जी ने अपने एक गुरु बंधु तारकनाथ की सहायता से कोलकाता के निकट वराहनगर के एक खंडहर में रामकृष्ण मठ की स्थापना की । इससे पूर्व उस स्थान पर भूतों का डेरा है, ऐसा लोगों का मानना था । विवेकानंद जी ने श्री रामकृष्ण जी की उपयोग में लाई गई वस्तुएं तथा उनके भस्म एवं अस्थियों का कलश वहां रखा और उनके भक्त वहां रहने लगे ।

स्वामी विवेकानंद द्वारा दिग्विजित सर्व धर्म परिषद सभा शिकागो जाने के विषय में पूर्वसूचना


एक दिन रात्रि अर्धजागृत अवस्था में स्वामी विवेकानंद को एक अद्भुत स्वप्न दिखाई दिया । श्री रामकृष्ण जी ज्योतिर्मय देह धारण कर समुद्र मार्ग से आगे-आगे बढे जा रहे हैं तथा स्वामी विवेकानंद को अपने पीछे-पीछे आने का संकेत कर रहे हैं । क्षणभर में स्वामी जी के नेत्र खुल गए । उनका हृदय अवर्णनीय आनंद से भर उठा । उसके साथ ही सुस्पष्ट रूप से उन्हें यह देववाणी सुनाई दी । परदेश प्रस्थान करने का संकल्प दृढ हो गया । एक-दो दिन में ही यात्रा की सभी तैयारियाँ पूर्ण हो गई ।

धर्म सभा परिषद के लिए प्रस्थान


31 मई 1893 को `पेनिनशुलर' जलयान ने मुंबई का समुद्र तट छोडा । स्वामी जी 15 जुलाई को कनाडा के वैंकुवर बंदरगाह पर पहुंचे । वहां से रेलगाडी से अमेरिका के प्रख्यात महानगर शिकागो आए । धर्म सभा परिषद 11 सितंबर को आयोजित हो रही है, ऐसा उन्हें ज्ञात हुआ । धर्म सभा परिषद में सहभाग लेने के लिए आवश्यक परिचय पत्र भी उनके पास नहीं था । प्रतिनिधि के रूप में नाम प्रविष्ट कराने की समय सीमा भी समाप्त हो चुकी थी । विदेश में स्वामी जी जहां भी जाते, वहां लोग उनकी ओर आकृष्ट होते जाते । पहले ही दिन हार्वर्ड विद्यापीठ में ग्रीक भाषा के प्रा. जे.एच. राईट, स्वामी जी से चार घंटे तक संवाद करते रहे । स्वामी जी की प्रतिभा तथा कुशाग्र बुद्धि पर वे इतने मुग्ध हुए कि धर्म परिषद सभा में प्रतिनिधि के रूप में प्रवेश दिलवाने का संपूर्ण दायित्व उस प्राध्यापक ने स्वयं पर ले लिया ।

शिकागो सर्व धर्म परिषद में विवेकानंद जी का सहभाग


इस सुवर्ण भूमि के सत्पुरुष द्वारा संसार को श्रेष्ठतम हिंदु धर्म की पहचान कराना, यह एक दैवी योग ही था । अमेरिका के शिकागो में 11 सितंबर 1893 को हुई सर्व धर्म परिषद सभा के माध्यम से समूचे संसार को आवाहन करने वाले स्वामी विवेकानंद हिंदु धर्म के सच्चे प्रतिनिधि प्रमाणित हुए । सोमवार, 11 सितंबर 1893 को प्रात: धर्मगुरुओं के मंत्रोच्चार के उपरांत संगीतमय वातावरण में धर्मपरिषद का शुभारंभ हुआ । व्यासपीठ के मध्यभाग में अमेरिका के रोमन कैथलिक पंथ के धर्मप्रमुख थे । स्वामी विवेकानंद किसी एक विशिष्ट पंथ के प्रतिनिधि नहीं थे । वे संपूर्ण भारतवर्ष में सनातन हिंदु वैदिक धर्म के प्रतिनिधि के नाते इस परिषद में आए थे । इस परिषद में छः से सात सहस्र स्त्री-पुरुष उपस्थित थे । अध्यक्ष की सूचनानुसार व्यासपीठ से प्रत्येक प्रतिनिधि अपने पहले से ही तैयार किया हुआ भाषण पढकर सुना रहा था । स्वामी जी अपना भाषण लिखकर नहीं लाए थे । अंततः अपने गुरुदेव जी का स्मरण कर स्वामी जी अपने स्थान से उठे । `अमेरिका की मेरी बहनों तथा बंधुओं' कहकर उन्होंने सभा को संबोधित किया । उनकी चैतन्यपूर्ण, तथा ओजस्वी वाणी से सभी मंत्रमुग्ध हो गए । इन शब्दों में कुछ ऐसी अद्भुत शक्ति थी कि स्वामी जी के ये शब्द कहते ही सहस्रों स्त्री-पुरुष अपने स्थान से उठकर खडे हो गए तथा तालियों का प्रखर स्वर प्रतिध्वनित होने लगा । लोगों की हर्षध्वनि और तालियां रोके नहीं रुकती थीं । स्वामी जी के उन भावपूर्ण शब्दों के अपनत्व से सभी श्रोताओं के हृदय स्पंदित हो गए । `बहनों और बंधुओं' इन शब्दों से सारी मानवजाति का आवाहन करने वाले स्वामी विवेकानंद जी एकमेव वक्ता थे ।

"हिंदु समाज पददलित होगा; किन्तु घृणास्पद नहीं है । वह दीन होगा-दु:खी होगा; परंतु बहुमूल्य पारमार्थिक संपत्ति का उत्तराधिकारी है । धर्म के क्षेत्र में तो वह जगद्गुरु हो सकता है, ऐसी उसकी योग्यता है ।' इन शब्दों में हिंदु धर्म के महत्त्व का वर्णन कर अनेक शतकों के उपरांत स्वामी विवेकानंद ने हिंदु समाज को उसकी विस्तृत सीमा से परिचित करा दिया । स्वामी जी ने किसी भी धर्म की निंदा नहीं की, कोई टीका-टिप्पणी नहीं की । किसी भी धर्म को उन्होंने तुच्छ नहीं कहा । अन्यों से मिला घृणास्पद व्यवहार तथा अपमान के कीचड में पडे हिंदु धर्म को एक ओर रखकर उसके मूल तेजस्वी रूप के साथ अंतर्राष्ट्रीय सर्वधर्मपरिषद सभा में सर्वोच्च आसन पर विराजमान कर दिया । इस परिषद में भारत के विषय में बोलते हुए उन्होंने कहा, `भारत पुण्यभूमि है, कर्तव्य कर्मभूमि है, यह परिष्कृत सत्य है, जिसे अंतर्दृष्टि तथा आध्यात्मिकता का जन्मस्थान कह सकते हैं, वह भारत है ! प्राचीन काल से ही यहां अनेक धर्मसंस्थापकों का उदय हुआ । उन्होंने परम पवित्र एवं सनातन जैसे आध्यात्मिक सत्य के शांतिजल से त्राहि-त्राहि करने वाले जगत को तृप्त किया है । संसार में परधर्म के लिए सहिष्णुता तथा प्रेम केवल इसी भूमि में अनुभव किया जा सकता है ।"

अमेरिका में प्रसारकार्य

25 वर्ष की अवस्था में नरेन्द्र ने गेरुए वस्त्र धारण कर लिए थे । तत्पश्चात उन्होंने पैदल ही पूरे भारतवर्ष की यात्रा की । यूरोप-अमेरिका के लोग उस समय पराधीन भारतवासियों को बहुत हीन दृष्टि से देखते थे । वहां लोगों ने बहुत प्रयत्न किया कि स्वामी विवेकानन्द को सर्वधर्म परिषद में बोलने का समय ही न मिले । परन्तु उन्हें थोडा समय मिला । उस परिषद में उनके विचार सुनकर सभी विद्वान चकित हो गए । इसके पश्चात तो अमेरिका में उनका अत्यधिक स्वागत हुआ । वहां उनके भक्तों का एक बडा समुदाय बन गया । तीन वर्ष वे अमेरिका में रहे और वहां के लोगों को उन्होंने भारतीय तत्वज्ञान की अद्भुत ज्योति प्रदान की । उनकी वक्तृत्व-शैली तथा ज्ञान को देखते हुए वहां के मीडिया ने उन्हें साइक्लॉनिक हिन्दु का नाम दिया । `अध्यात्म-विद्या और भारतीय दर्शन के बिना विश्व अनाथ हो जायेगा' यह स्वामी विवेकानन्द का दृढ विश्वास था । अमेरिका में उन्होंने रामकृष्ण मिशन की अनेक शाखाएं स्थापित कीं । अनेक अमेरिकी विद्वानों ने उनका शिष्यत्व ग्रहण किया । वे सदा अपने को निर्धनों का सेवक कहते थे । उन्होंने सदैव भारत के गौरव को देश-देशान्तरों में उज्ज्वल करने का प्रयत्न किया ।


यह भी पढिये - कोरोना पर होगी ‘भारतीयता’ की विजय !

प्रवचनों के द्वारा प्रसार कार्य


परदेश में भारत का नाम उज्ज्वल कर कोलकाता आने पर नागरिकों ने आदर के साथ स्वामी जी का बहुत स्वागत किया । `मेरे अभियान की योजना', `भारतीय जीवन में वेदांत', ‘हमारा आज का कर्तव्य', `भारतीय महापुरुष', `भारत का भविष्य' जैसे विषयोंपर उन्होंने व्याख्यान देना आरंभ किया । स्वामी विवेकानंद जी ने परदेश तथा स्वदेश में दिए व्याख्यानों से समय-समय पर ओजपूर्ण स्वर में अपने मत प्रकट किए । स्वामी विवेकानंद के इन विचारों का बहुत बडा प्रभाव पडा । परदेश में भी उन्होंने वेदांत की वैश्विक वाणी का प्रचार किया । इसके कारण पूरे संसार में आर्यधर्म, आर्यजाति एवं आर्यभूमि को प्रतिष्ठा मिली ।


स्वामी विवेकानंद जी के विषय में विद्वानों के गौरवोद्गार


गुरुदेव रवीन्द्रनाथ ठाकुर ने एक बार कहा था-"यदि आप भारत को जानना चाहते हैं, तो विवेकानन्द को पढिए । उनमें आप सब कुछ सकारात्मक ही पाएंगे, नकारात्मक कुछ भी नहीं ।"

रोमां रोलां ने उनके विषयमें कहा था-"उनके द्वितीय होने की कल्पना करना भी असम्भव है वे जहां भी गए, सर्वप्रथम ही रहे । हर कोई उनमें अपने नेता का दिग्दर्शन करता था । वे ईश्वर के प्रतिनिधि थे और सब पर प्रभुत्व प्राप्त कर लेना ही उनकी विशिष्टता थी । हिमाचल प्रदेश में एक बार एक अनजान यात्री उन्हें देख ठिठक कर रुक गया और आश्चर्यपूर्वक चिल्ला उठा-‘शिव !’ यह ऐसा हुआ मानो उस व्यक्ति के आराध्य देव ने अपना नाम उनके माथे पर लिख दिया हो ।"

वे केवल सन्त ही नहीं, एक महान देशभक्त, वक्ता, विचारक, लेखक और मानव-प्रेमी थे । अमेरिका से लौटकर उन्होंने देशवासियों का आह्वान करते हुए कहा था-`नया भारत निकल पडे मोची की दुकान से, भडभूंजे के भाड से, कारखाने से, हाट से, बाजार से; निकल पडे झाडियों, जंगलों, पहाडों एवं पर्वतों से ।' और जनता ने स्वामी जी की पुकार का उत्तर दिया । वह गर्व के साथ निकल पडी । गांधी जी को आजादी की लडाई में जो जन-समर्थन मिला, वह विवेकानन्द के आह्वान का ही फल था । इस प्रकार वे भारतीय स्वतन्त्रता संग्राम के भी एक प्रमुख प्रेरणा-स्रोत बने । उनका विश्वास था कि पवित्र भारतवर्ष धर्म एवं दर्शन की पुण्यभूमि है । यहीं बडे-बडे महात्माओं एवं ऋषियों का जन्म हुआ, यही संन्यास एवं त्याग की भूमि है तथा यहीं-केवल यहीं-आदिकाल से लेकर आज तक मनुष्य के लिए जीवन के सर्वोच्च आदर्श एवं मुक्ति का द्वार खुला हुआ है । उनका कथन-‘उठो, जागो, स्वयं जागकर औरों को जगाओ । अपने नर-जन्म को सफल करो और तब तक नहीं रुको जब तक लक्ष्य प्राप्त न हो जाए ।'



`परहितार्थ सर्वस्व का समर्पण अर्थात खरा संन्यास', यह वचन सार्थक !


भारत की आध्यात्मिक संस्कृति के प्रति गर्व होने पर भी उसमें प्रविष्ट अनिष्ट रूढि, परंपरा, जातिभेद जैसे हीन घटकों पर अपने भाषणों से करारा प्रहार कर निद्रितों को एक झटके में जगा दिया । ऐसे में वे समाज की निष्क्रियता पर प्रहार करते तथा अपने देशबंधुओं को जागृत होने के लिए आतंरिक आवाहन करते । निराकार समाधि में मग्न रहने की स्वयं की स्वाभाविक प्रवृत्ति एक ओर रख कर उन्होंने सर्वसामान्य लोगों के सुख-दु:ख का ऐहिक स्तर पर भी विचार किया तथा उसके लिए परिश्रम किया । इस प्रकार उन्होंने `परहितार्थ सर्वस्व का समर्पण ही सच्चा संन्यास है', यह वचन सार्थक किया ।
अंग्रेजों का वर्चस्व रहते हुए भारत भूमि तथा हिंदु धर्म के उद्धार के लिए दिन-रात चिंता करने वाले तथा इस उद्धारकार्य के लिए तन, मन, धन एवं प्राण अर्पण करने वाले कुछ नवरत्न भारत में हुए हैं । उनमें से एक दैदीप्यमान रत्न थे स्वामी विवेकानंद । धर्मप्रवर्तक, तत्त्वचिंतक, विचारवान एवं वेदांतमार्गी राष्ट्रसंत इत्यादि विविध रूपों में विवेकानंद जी का नाम सर्व जगत में विख्यात है । तरुण अवस्था में ही संन्यास आश्रम की दीक्षा लेकर हिंदु धर्म का प्रसारक बना, एक तेजस्वी तथा ध्येयवादी व्यक्तित्व ! उनकी जयंती के निमित्त `अंतर्राष्ट्रीय युवक दिवस' मनाया जाता है । स्वतंत्रता के उपरांत भारतभूमि तथा हिंदु धर्म की हुई दुरावस्था को रोकने के लिए आज भी स्वामी विवेकानंद के तेजस्वी विचारों की आवश्यकता है, भारतवासियों को इसका ज्ञान हो, इस हेतु यह लेख !


श्री सुरेश मुंजाल,  हिन्दू जनजागृति समिति
दिल्ली समन्वयक
समपर्क : 9811414247

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें