शुक्रवार, 13 मार्च 2020

nityanand land बाबा ने बनाया अपना देश


nityanand land

nityanand land बाबा ने बनाया अपना देश


nityanand land नई दिल्ली। एक बाबा का समृद्ध देश जहां आपको शिक्षा मुफ्त मिलेगी, खाना फ्री मिलेगा, स्वास्थ्य सेवाए भी फ्री मिलेगी। पूर्ण भारतीय संस्कृति पर आधारित देश। नाम होगा कैलासा (nation kailaasa)। पूर्ण रूप से हिन्दू राष्ट्र । हम बात कर रहें है स्वामी नित्यानंद (godman swami nithyananda) के टापू (private island) nityanand land की जिसका नाम रखा गया है कैलासा। इस देश nityanand land का अलग झंडा है, पासपोर्ट रखा गया है, अलग पैसा चलेगा। अगर देखे तो पूर्ण रूप से एक देश का ढांचा जहां अपना अलग से संविधान होगा। और इस देश के भगवान व सर्वे सर्वा होंगे स्वामी नित्यानंद महाराज। जी हां वहीं  नित्यानंद स्वामी जिन पर पुलिस ने रेप के आरोप की जांच कर रही है लेकिन जैसे ही स्वामी जी को पता चला कि पुलिस का शिकंजा कस चुका है तो स्वामी जी हो गए रफू चक्कर। आधिकारिक तौर पर तो उनके देश छोडऩे की पुष्टि नहीं हुई है लेकिन अंदर ही अंदर खबर चल रही है कि स्वामी जी देश छोड़ कर गायब हो गए है और उन्होंने हिन्दुस्तान से 16 हजार किलोमीटर दूर एक टापू खरीद (buying an island) लिया है जहां अलग देश के निर्माण की घोषणा की गई है। बाकायदा इसकी आधिकारिक वेबसाईट का भी निर्माण किया गया है जहां आपको इससे संबंधित सभी जानकारी मिल जाएगी।

nityanand is land कैरेबियाई टापू पर क्या क्‍या होगा

अगर वेबसाईट पर नजर डाले तो यह कैरेबियाई टापू (world who lost) का नाम रखा गया है कैलासा। नाम से ही जाहिर है कि यह टापू जिसे देश घोषित कर अपने में एक अलग ही इतिहास रचने की कोशिश कर रहा है नित्यानंद एक पूर्ण रूप से हिन्दू राष्ट्र (hindu nation) बनाने का प्रयास कर रहा है। जहां दूनिया भर के पीडि़त हिन्दूओं को जगह मिलेगी। इस देश की रूपरेखा भी तय कर ली गई है। इस नए देश का अलग से पासपोर्ट होगा, अपना संविधान होगा, अपनी कानून व्यवस्था होगी। अपने मंत्रिमंडल होंगे। फिलहाल बाबा जी यौन शोषण के आरोपों से घिरे हुए है। इन्हीं यौन शोषण के आरोपों के लिए जब पुलिस ने शिकंजा कसा तो बाबा जी ने अपने लिए अलग ही कानून का निर्माण कर लिया। और पहुंच गए उस कानून की गोदी में बचने के लिए। 

कोई भी हिन्दू पा सकता है नागरिकता

स्वामी नित्यानंद का दावा है कि दुनिया का कोई भी हिन्दू यहां की नागरिकता प्राप्त कर सकता है। अब यह स्पष्ट नहीं हो सकता है की नित्यानंद की कैलासा। देश का लोकेशन क्या है, नक्शा क्या है । embassy of ecuador

वेबसाईट पर किया देश के ढांचे का खुलासा

अगर वेबसाईट पर नजर डाले तो हम पाते है कि नित्यानंद ने अपने देश कैलासा की सभी बुनियादी चीजों का चुनाव कर लिया है जो एक देश के लिए आवश्यक है। जैसे राष्ट्रीय पशु बैल नंदी को बनाया गया है। इस देश का अपना पासपोर्ट होगा, अपना झंडा होगा जिसमें नित्यानंद को भगवान शंकर के अंदाज में दिखाया गया है। और नंदी उसकी उपासना कर रहा है। इसके अलावा भी नित्यानंद के कैलाश देश का राष्ट्रीय फूल कमल, राष्ट्रीय पक्षी शारबम, राष्ट्रीय पेड़ बरगद को बताया गया है। जबकि इस देश की इकानमी पर बात की जाए तो वह धार्मिक तौर पर रखी गई है। पूर्ण व्यवस्था भारतीय संस्कृति पर आधारित होगी। styled godman nithyananda
– दुनियां के सभी हिन्दूओं का स्वागत

कैलासा का अपना व्यवस्थित ढांचा होगा

अगर वेबसाईट की बात माने तो कैलासा (practice hinduism authentically) देश की शिक्षा व्यवस्था गुरूकुल शिक्ष व्यवस्था पर आधारित होगी जहां गुरू नियम कायदों (government of ecuador) को मान्यता मिलेगी। गाय की रक्षा की जाएगी। इस देश (created by dispossessed hindus) की अपनी प्रशासकीय प्रणाली होगी जहां अपनी सरकार होगी, अपनी कैबिनेट होगी। कैबिनेट में डिपार्टमेंट ऑफ स्टेट होगा, डिपार्टमेंट ऑफ टेक् नॉलजी होगी, डिपार्टमेंट ऑफ एनलाइटेंड सिविलाइज़ेशन, डिपार्टमेंट ऑफ ह्युमन सर्विसेज़ और डिपार्टमेंट ऑफ कॉमर्स जैसे विभागों का जिक्र किया गया है। कैलासा का मुख्य उद्देश्य मंदिर आधारित (temple based) जीवनशैली को फिर से व्यवहार में लाना होगा। इसीलिए कैलासा की राष्ट्र भाषा संस्कृत रखी गई है जबकि दुनिया से संपर्क करने व आधुनिकता लाने के लिए मुख्य भाषा में अंग्रेजी को भी महत्व दिया गया है इसके साथ ही साथ तमिल को भी राष्ट्र भाषा  (english sanskrit and tamil) में शामिल किया गया है। कैलासा की अर्थव्यवस्था कैसे चलेगी इसकी रूप रेखा तैयार है। trinidad and tobago पर भी ध्‍यान होगा। ecuador denies

मुफ्त होगी आधारभूत सुविधाएं

किसी भी विकसित देश की पहचान होती है कि वह अपने नागरिकों को आधारभूत सुविधाएं मुफ्त प्रदान करता है। कैलासा की वेबसाईट में भी कुछ ऐसा ही देखने को मिलता है। जी हां वेबसाईट के मुताबिक यहां के निवासियों को (purchasing any land) मुफ्त में शिक्षा, भोजन, चिकित्सा प्राप्त होगा। विज्ञान के विभिन्न विषयों की पढाई होगी तथा रिसर्च होगी। नित्यानंद के कैलासा में स्कूल, कॉलेज, हॉस्पिटल आदि सब कुछ होगा जहां लोगों को मुफ्त सुविधा प्राप्त होगी। बल्कि इस देश का अपना पैसा होगा। वैदिक गणित, योगा होगी, हिन्दू त्यौहार मनाने का विशेष प्रबंध मंदिर आधारित जीवन शैली होगी, सभी में समानता होगी, बच्चों को सुरक्षा प्रदान की जाएगी, इसके अलावा भी जानवरों को भी सुरक्षित वातावरण दिया जाएगा। 

विवादों से गहरा नाता स्वामी नित्यानंद का

गुजरात पुलिस (gujarat police) नित्यानंद की तलाश में है। नित्यानंद की देश से भागने की संभावना है। स्वयंभू बाबा नित्यानंद पर कर्नाटक में रेप (rape accused) और किडनैपिंग का केस दर्ज है, तो वहीं गुजरात में उत्पीडऩ को लेकर भी केस दर्ज है। कुछ साल पहले उनकी सैक्स सीडी आई थी जिसके बाद नित्यानंद गायब हो गया लेकिन कुछ सालों बाद एक बार फिर वह स्वामी की मुद्रा में आया और लोग फिर से उसके मुरिद हो गए। कुंभ के मेले में भी स्वामी नित्यानंद पर लोगों ने आरोप लगाया कि उन्होंने काम करवा कर पैसा नहीं दिया। स्वामी नित्यानंद पर कानून का शिकंजा तब कसने लगा जब चार बच्चों को कथित तौर पर अगवा करने और उन्हें एक फ्लैट में बंधक बनाकर रखने का आरोप है। पुलिस नित्यानंद के आश्रम से लापता हुई एक महिला के मामले में भी जांच कर रही है। महिला के पिता जनार्दन शर्मा ने शिकायत दर्ज कराई थी। पुलिस ने 20 नवंबर को स्वयंभू बाबा स्वामी नित्यानंद के खिलाफ मामला (rape case) दर्ज किया था। नित्यानंद पर अहमदाबाद में अपना आश्रम योगिनी सर्वज्ञपीठम चलाने के लिए बच्चों को कथित तौर पर अगवा करने और उन्हें बंधक बनाकर अनुयायियों से चंदा जुटाने के आरोप हैं। coronavirus outbreak

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें